मस्त हरयाणवी जोक



एक जाट के कोए बालक ना था। उसने खूब मन्नतें मांगी,
नंगे पैर तीर्थ यात्रा पर गया,
धरती पै सोया,
सारे देवी देवताओं के दर्शन करै ,
घणै दिन तक ब्रत करया,
और आखरी में कठिन निर्जला व्रत शुरू कर दिया।

फैर भगवान् खुद प्रकट
होए और हाथ जोड़ कै बोले..

" पहले ब्याह तो कर ले खसम ". 😂😂.