2 मिनट का मौन

31 दिसंबर और 1 जनवरी का नशा उतर गया हो तो
2 मिनट का मौन उन बकरों
और मुर्गों के लिए भी रख लो जो बेचारे
आपकी खातिर 2016 का सूरज नहीं देख पाये।