ये बात और ह

ये बात और है कि, तक़दीर लिपट के रोई मुझसे....
वरना, बाहें तो 'तेरे' लिए ही फैलाई थीं ....