हल्की फ़ुल्की सी होती है,ज़िँदगी

हल्की फ़ुल्की सी होती है,ज़िँदगी सब की.....
.....बोझ तो बस ख़्वाहिशो
का होता है