मुखौटे बचपन में देखे थ

मुखौटे बचपन में देखे थे मेले में टंगे हुए...
समझ पड़ी तो लोगों पे चढ़े हुए देखे..