तुम्हें तुम्हारी पत्नी की कसम

बस के गेट पर लटके हुए मुसाफिरों से कंडक्टर ने कहा:
भाइयो, अंदर हो जाओ।
इस तरह गेट पर लटकना आपकी जान के लिए खतरनाक है।
लेकिन जब कोई भी अंदर न हुआ तो कंडक्टर गुस्से में बोला:
तुम्हें तुम्हारी पत्नी की कसम अंदर हो जाओ !
इतना सुनना था कि जो मुसाफिर सीटों पर बैठे थे…
वे भी गेट पर आकर लटक गए।