बस इतना दे कि

बस इतना दे कि जब जमीं पर बैठू तो,
लोग उसे मेरा बडप्पन कहें औकात नहीं।।