खामोशीयां ही बेहतर ह

तज़ुर्बा कहता है...
खामोशीयां ही बेहतर हैं,
अल्फाज़ों से लोग रूठते बहुत हैं...