अपने हाथ की लकिरें

अपने हाथ की लकिरें भी कितनीबेवफा हैं...
खुद की हैं, पर समझ किसी और कोआती हैं.