टूट कर बिखर जाते हैं वो लोग

टूट कर बिखर जाते हैं वो लोग मिटटी की दिवारो की तरह
जो खुद से भी जयादा किसी और से महोबत किया करते हैं