दुकानदारी तो करने दे

लाला दीन दयाल जी ने सपने
मेँ कपडे की दुकान खोल ली ..

दुकान खोलते ही ग्राहकों की
भीड टूट कर पडी ..
॰ एक ग्राहक - लालाजी 30 मीटर मारकिन दे दो ..

लालाजी थान मेँ से कपडा
फाडने लगे
अचानक साथ सो रही पत्नि
की आँख खुली .. ॰
तो जोर से चिल्लाई - ऐ जी मेरी साडी क्यों फाड रहे हो
आप?

लालाजी भी नीँद मेँ
चिल्लाये - घर मेँ तो चैन से जीने नहीँ देती कमबख्त ...

दुकानदारी तो करने दे
कम से कम😝😝😝😝😝😝😝😝😝😝😝😝😝😝😝😝😝😝